शुक्रवार, 30 दिसंबर 2011

'आज का इतिहास,द्वादश-भाग'


'१६ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
१६ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५०वॉ (लीप वर्ष मे ३५१वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और १५ दिन बाकी है।
१६ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् ७५५- चीन के तांग राजवंश के दौरान फंयंग, चांसलर यांग गुओज्होंग द्वारा एक विशाल विद्रोह की शुरुआत |
(२) सन् १४३१- इंग्लैंड के राजा हेनरी VI  को फ्रांस के राजा का ताज पहनाया गया |
(३) सन् १८५७- नेपल्स, इटली में भूकंप आया जिसमें लगभग ४० हज़ार व्यक्ति मारे गए |
(४) सन् १८५८- डच सरकार द्वारा स्चोक्लंद द्वीप खाली करने का फैसला |
(५) सन् १८६२- नेपाल के राज्य अपने संविधान को स्वीकार |
(६) सन् १९१३- चार्ली चैपलिन कीस्टोन में $ १५० एक सप्ताह के वेतन पर अपना फिल्म कैरियर शुरू किया |
(७) सन् १९२२- पोलैंड के राष्ट्रपति गैब्रियल नारुतोविक्ज़ की हत्या कर दी गई।
(८) सन् १९७१- भारत की सेना ढाका में रह रहे है, पश्चिम पाकिस्तानी सैनिकों समर्पण |
(९) सन् १९९८- इराक निरस्त्रीकरण संकट: ऑपरेशन डेजर्ट फॉक्स - संयुक्त राज्य अमेरिका और यूनाइटेड किंगडम इराक में बम लक्ष्य |
(१०) सन् २०११-  फिलीपींस में अचानक आई बाढ़ से एक हज़ार से ज्यादा लोग मारे गए | ८०० से ज्यादा लोग लापता हो गए | दक्षिणी फिलीपींस में वाशी नाम का चक्रवाती तूफान आया | तूफान की वजह से भारी बारिश हुई और कुछ ही घंटों के भीतर अचानक तेज बाढ़ आ गई | सबसे ज्यादा नुकसान कागयान और इलिगान शहर में हुआ | इलिगान में २०० से ज्यादा लोग मारे गए, कागयान में ४०० से ज्यादा लोगों की मौत हो गई | इलिगान की स्वास्थ अधिकारी लिडी विलारिन के मुताबिक कई शवों की शिनाख्त नहीं हो सकी, ४५,००० से ज्यादा लोगों को विस्थापित होना पड़ा |

१६ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १७८७- मैरी रसेल मिटफोर्ड, अंग्रेजी लेखक (निधन-सन् १८५५) |
(२) सन् १७९०- बेल्जियम के राजा लियोपोल्ड मैं (निधन-सन् १८६५) |
(३) सन् १८०४- विक्टर बुन्याकोव्स्क्य, रूसी गणितज्ञ (निधन-सन् १८८९) |
(४) सन् १८३४- लियोन वालरस, फ्रेंच अर्थशास्त्री (बॉर्डर उपयोग सिद्धांत) |
(५) सन् १८६५- विक्टर रूसो, बेल्जियम मूर्तिकार |
(६) सन् १८६७- एमी कार्मिचैल, दोह्नावुर , भारत में मिशनरी (निधन-सन् १९५१) |
(७) सन् १८६९- अल्बर्ट एफ पोलार्ड, ब्रिटिश इतिहासकार |
(८) सन् १९०४- एडवर्ड मॉरिस बेर्न्स्तें, अर्थशास्त्री |
(९) सन् १९०५- पीट हेन, कवि / आविष्कारक |
(१०) सन् १९२२- एलन वूरीज़, अमेरिकी इंजीनियर और शहरी योजनाकार (निधन-सन् २००५)

१६ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् ७०५- झोउ की महारानी वू (जन्म- सन् ६२५) |
(२) सन् १४७०- जॉन द्वितीय, ड्यूक ऑफ लोरेन (जन्म- सन् १४२५) |
(३) सन् १५९८- यी सूर्य पाप, कोरियाई एडमिरल (जन्म- सन् १५४५) |
(४) सन् १९९६- क्वेंटिन बेल, लेखक /शिक्षक/कलाकार |
(५) सन् २००५- जॉन स्पेन्सर, अमेरिकी अभिनेता (जन्म- सन् १९४६) |
(६) सन् २००६- डॉन जार्डाइन, कनाडा के पेशेवर पहलवान (जन्म- सन् १९४०) |
***
'१७ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
१७ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५१वॉ (लीप वर्ष मे ३५२वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और १४ दिन बाकी है।
१७ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १३९८- दिल्ली में सुल्तान नासिर-उ दीन महमूद की सेनाओं ने तैमूर से पराजय स्वीकार कर ली |
(२) सन् १५२६- ऑस्ट्रिया के फर्डिनेंड को बोहेमिया के राजा के रूप में चुना गया |
(३) सन् १९२७- भारत के एक प्रमुख क्रान्तिकारी राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी को निर्धारित तिथि से २ दिन पूर्व ब्रिटिश सरकार ने गोण्डा जेल में फाँसी पर लटका कर मार दिया।
(४) सन् १९९३- टेनिस स्टार बोरिस बेकर (आयु-२६) बारबरा फेल्तुस (आयु-२७) का विवाह |

१७ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १७३४- पुर्तगाल की मारिया मैं, पुर्तगाली रानी (निधन-सन् १८१६) |
(२) सन् १७९६- थॉमस चांडलर हलिबुर्तों, कनाडा के उपन्यासकार (निधन-सन् १८६५)
(३) सन् १७९७- जोसेफ हेनरी, अमेरिका के वैज्ञानिक / आविष्कारक-विद्युत चुंबकत्व के अग्रणी सिद्धांत |
(४) सन् १९१४- मुश्ताक अली, भारतीय क्रिकेटर (१९३० और १९४० के दशक में भारतीय बल्लेबाज) |
(५) सन् १९२०- केनेथ ई. इवेरसों, कनाडा के कंप्यूटर वैज्ञानिक (निधन-सन् २००४) |
(६) सन् १९३७- केरी पैकर, ऑस्ट्रेलियाई व्यापारी और आधुनिक फटाफट क्रिकेट के जनक (निधन-सन् २००५) |
(७) सन् १९७२- भारतीय हिन्दी फिल्म अभिनेता जॉन अब्राहम |
(८) सन् १९७८- भारतीय हिन्दी फिल्म अभिनेता रितेश देशमुख |

१७ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् ५३५- जापान के सम्राट आँकन (जन्म-सन् ४६६) |
(२) सन् १४७१- पुर्तगाल, बरगंडी के रानी इसाबेला |
(३) सन् १८४७- ऑस्ट्रिया की राजकुमारी मैरी लुईस, नेपोलियन की दूसरी पत्नी (जन्म-सन् १७९१) |
(४) सन् १८६०- देसिरी कलारी, स्वीडन और नॉर्वे की रानी (जन्म-सन् १७७७) |
(५) सन् २००३- ब्रायन ली, विकिपीडिया के जनक, जेम्स ली (जन्म-सन् १९४८) |
(६) सन् २००९- जेनिफर जोन्स, अमेरिकी अभिनेत्री (जन्म-सन् १९१९) |
(७) सन् २०११-  उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग इल का निधन, लगभग १८ साल तक उत्तर कोरिया का शासन करने वाले किम जोंग इल का शनिवार को निधन हो गया, उनके पूरे शासनकाल में कम्युनिस्ट शासन वाले इस देश का पश्चिमी जगत से तनाव रहा और इसी दौरान उत्तर कोरिया परमाणु शक्ति भी बना | किम जोंग इल की मौत शारीरिक और मानसिक तनाव से हुई, वह रेल यात्रा कर रहे थे, किम जोंग इल की उम्र ६९ साल थी | वह सन् १९९४ से उत्तर कोरिया के शासक थे, उन्होंने अपने पिताकिम इल सुंग की मौत के बाद सत्ता संभाली थी | उनके बेटे किमजोंग उन को उनका उत्तराधिकारी घोषित किया है, किम जोंग उन की उम्र केवल 28 साल है और राजनीति में कोई तजुर्बा ना होते हुए भी पिछले साल उन्हें जनरल का दर्जा और पार्टी में उच्च पद दिया गया |
***
'१८ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
१८ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५२वॉ (लीप वर्ष मे ३५३वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और १३ दिन बाकी है।
१८ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १२७१- कुवलय खाँ ने अपने साम्राज्य का नाम युवान रखा था जो मंगोलिया और चीन में फैली हुई थी।
(२) सन् १६४२- समुद्री खोजी नाविक तस्मान न्यूजीलैंड की धरती पर उतरा। उसी के नाम पर न्यूजिलैंड के समीपवर्ती समुद्र को तस्मानिया समुद्र भी कहा जाता है।
(३) सन् १९५६- जापान ने संयुक्त राष्ट्र की सदस्यता ग्रहण की।
(४) सन् १९६६- शनि के उपग्रह एपी मैथिल्स की खोज हुई।
(५) सन् १९६९- इंगलैंड में मृत्युदंड की सज़ा समाप्त कर दी गई।
(६) सन् १९८७- बेनज़ीर भुट्टो और आसिफ अली जरदारी की शादी |

१८ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १६६१- क्रिस्टोफर पोल्हेम, स्वीडिश वैज्ञानिक और आविष्कारक (निधन-सन् १७५१) |
(२) सन् १७०९- एलिजाबेथ, रूस की साम्राज्ञी (पीटर महान और कैथरीन मैं) |
(३) सन् १७७८- जोसेफ ग्रेमैल्डी, इंग्लिश क्राउन के नाम से मशहूर।
(४) सन् १८७८- जोसेफ स्टैलिन, सोवियत नेता।
(५) सन् १९१३- बिलि ब्रैंड, जर्मन चाँसलर।
(६) सन् १९६१- लालचंद राजपूत, भारतीय क्रिकेटर,भारतीय टेस्ट खोलने बल्लेबाज (सन् १९८५-सन् ८६) |
(७) सन् १९८५- तारा कोन्नेर, सन् २००६ की मिस यूएसए |

१८ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् ११३३- हिल्देबेर्ट, फ्रेंच लेखक |
(२) सन् १२९०- स्वीडन के राजा मैगनस मैं (जन्म-सन् १२४०) |
(३) सन् १४४२- पियरे कूचों, फ्रेंच कैथोलिक बिशप (जन्म-सन् १३७१) |
(४) सन् १४९५- नेपल्स के राजा अलफांसो द्वितीय (जन्म-सन् १४४८) |
(५) सन् २०१०- जैकलिन डी रोमिल्ली, फ्रांसीसी भाषातत्वज्ञ और शास्त्रीय विद्वान (जन्म-सन् १९१३) |
***
'१९ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
१९ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५३वॉ (लीप वर्ष मे ३५४वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और १२ दिन बाकी है।
१९ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १८५४- एलन विल्सन कर्विंग द्वारा सिलाई मशीन का पेटेंट कराया गया |
(२) सन् १८६१- काले पानी की लड़ाई प्रारम्भ |
(३) सन् १९२४- जर्मन सीरियल किलर फ्रिट्ज हार्मैन को हत्या की एक श्रृंखला के लिए मौत की सजा सुनाई गई।
(४) सन् १९२७- भारत के ३ क्रान्तिकारियों पंडित राम प्रसाद 'बिस्मिल', अशफाक उल्ला खाँ व ठाकुर रोशन सिंह ब्रिटिश सरकार ने फाँसी पर लटका कर मार दिया।
(५) सन् १९३२- ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कार्पोरेशन विदेशी प्रसारण शुरू |
(६) सन् १९६१- गोवा स्वतंत्र हुआ।
(७) सन् १९६१- ब्रिटिश सरकार द्वारा दशमलव सिक्का प्रणाली शुरू की गयी |
(८) सन् १९६३- जंजीबार ब्रिटेन से स्वतंत्र हो गया |
(९) सन् १९७२- अपोलो-17 (अपोलो चंद्रमा यात्रा श्रृंखला) पृथ्वी पर वापस लौटा |
(१०) सन् १९८३- ब्राजील के शहर रियो दी जेनेरियो से फुटबॉल का फिफा विश्वकप की चोरी हो गई।
(११) सन् १९८७- गैरी कास्पारोव विश्व शतरंज चैंपियन बन गया |
(१२) सन् १९८८- नासा उनविएल्स द्वारा चंद्र कॉलोनी और मंगल ग्रह पर मानव मिशन भेजने के लिए योजना की घोषणा |

१९ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १८९९- मार्टिन लूथर किंग सिनियर मानवाधिकारों के लिए आजिवन संघर्ष करने वाले अमेरिकी नेता।
(२) सन् १९३४- प्रतिभा देवी सिंह पाटिल, भारत की प्रथम महिला राष्ट्रपति ।
(३) सन् १९७४ –रिकी पोंटिंग‎ - ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेट खिलाड़ी एवं कप्तान |
(४) सन् १९७४ –जेक प्लमर - (अमरीकन फुटबॉल के खिलाड़ी) |
(५) सन् १९८०- जेक गाइलनहाल - अमरीकन अभिनेता |

१९ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् १८५१- ब्रिटिश चित्रकार (वर्षा भाप, और स्पीड), जेएम विलियम टर्नर, ७६ वर्ष की आयु में निधन  |
(२) सन् १९१५- एल्विस अल्जाइमर, जर्मन न्यूरोलॉजिस्ट (अल्जाइमर रोग के अन्वेषक), ५१ वर्ष की आयु में निधन  |
(३) सन् २००४- हर्बर्ट सी. ब्राउन, अंग्रेजी में जन्मे अमेरिकी रसायनज्ञ, नोबेल पुरस्कार विजेता (जन्म-सन् १९१२) |
(४) सन् २००८- जेम्स बेवल,सन् १९६० के दशक के नागरिक अधिकार आंदोलन के नेता (जन्म-सन् १९३६) |
***
'२० दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२० दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५४वॉ (लीप वर्ष मे ३५५वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और ११ दिन बाकी है।
२० दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १७८०- इंग्लैंड द्वारा नीदरलैंड पर युद्ध की घोषणा |
(२) सन् १९२२- सोवियत समाजवादी गणराज्यों की १४ गणराज्यों के एकीकरण का संघ (यूएसएसआर) की स्थापना |
(३) सन् १९२३- बेगर फैटरनिटि (संयुक्त राज्य अमेरिका के जेसुइट कॉलेज में स्थापित पहली सामाजिक समिति) की ९ लोगों ने स्थापना की जो पोप से ऐसा करने की अनुमति हासिल कर चुके थे ।
(४) सन् १९२४- एडॉल्फ हिटलर जेल से मुक्त |
(५) सन् १९३९- रेडियो ऑस्ट्रेलिया विदेशी शोर्टवेव सेवा शुरू |
(६) सन् १९७१- पाकिस्तान के राष्ट्रपति याह्या खान का इस्तीफा |
(७) सन् २००७- सन् १९०४ में स्पेनिश कलाकार पाब्लो पिकासो द्वारा बनाई गयी ब्लोच की पेंटिंग पोर्ट्रेट, साओ पाउलो कला के संग्रहालय से चोरी हो गयी |

२० दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १४९४- ओरोंस ललित, फ्रांसीसी गणितज्ञ (निधन-सन् १५५५)
(२) सन् १५३७- स्वीडन के किंग जॉन III (निधन-सन् १५९२) |
(३) सन् १८४१- फर्डिनांड बूइसॉं, फ्रेंच शांतिवादी, नोबेल शांति पुरस्कार से सम्मानित (१९३२) |
(४) सन् १९२२- चैरिटा बोअर, अमेरिकी अभिनेत्री /सोप ओपेरा सितारा(निधन-सन् १९८५)
(५) सन् १९२७- किम यंग - सैम, दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति |
(६) सन् १९७०- ग्रांट फ्लावर, क्रिकेटर (एंडी जिम्बाब्वे टेस्ट सलामी बल्लेबाज के भाई) |
(७) सन् १९८२- पाकिस्तानी क्रिकेट खिलाड़ी मोहम्मद आसिफ |
(८) सन् १९८३- डैरेन सैमी, सेंट लुसियान वेस्ट इंडीज के क्रिकेटर |

२० दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् १७२२- चीन के सम्राट कांग्क्सी (जन्म-सन् १६५४) |
(२) सन् १९३६- बैरन डी बोर्च्ग्रावे, बेल्जियम के राजदूत, मैड्रिड में हत्या कर दी |
(३) सन् १९९५- मैज सिंक्लेयर, अभिनेत्री (स्टार ट्रेक फिल्म से प्रसिद्धि) |
(४) सन् २००९- ब्रित्तनी मर्फी, अमेरिकी अभिनेत्री (जन्म-सन् १९७७) |
***
'२१ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२१ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५५वॉ (लीप वर्ष मे ३५६वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और १० दिन बाकी है।
२१ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १७६२- जेम्स कुक की शादी एलिजाबेथ बत्ट्स से हुयी |
(२) सन् १८९८- दो वैज्ञानिकों पियरे और मैरी क्यूरी द्वारा रेडियम की खोज |
(३) सन् १९९१- अमेरिकी अभिनेत्री जेन फोंडा की शादी सीएनएन के निदेशक टेड टर्नर से हुयी |

२१ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १५३७- जोहान III, स्वीडन के राजा (सन् १५६९-सन् १५९२) |
(२) सन् १८९०- हरमन जोसेफ मुलर, अमेरिकी आनुवंशिकीविद् और नोबेल पुरस्कार विजेता (निधन- सन् १९६७) |
(३) सन् १८९२- एमी कुंजी क्लार्क, अंग्रेजी रहस्यमय कवि (निधन- सन् १९८०) |
(४) सन् १९२२- इतुबवा अम्रम, नौर्बेआई पादरी और राजनेता (निधन- सन् १९८९)
(५) सन् १९३४- हनीफ मोहम्मद, क्रिकेटर (पाकिस्तानी बल्लेबाज, सन् १९५२-सन् १९६९) |

२१ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् १५७९- विसेंट मसिप, स्पेनिश चित्रकार |
(२) सन् २००४- औतार सिंह पेंटल, भारतीय चिकित्सा वैज्ञानिक (जन्म-सन् १९२५) |
(३) सन् २०१०- एंज़ो बेअर्जोत, इतालवी फुटबॉल खिलाड़ी और मैनेजर (जन्म-सन् १९२७) |
***
'२२ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२२ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५६वॉ (लीप वर्ष मे ३५७वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और ९ दिन बाकी है।
२२ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १९३७- न्यूयार्क में द लिंकन टनल यात्रा के लिए खोल दिया गया।
(२) सन् १९४७-इटली की संविधान सभा में नए संविधान पर मतदान हुआ।
(३) सन् १९४७-पहला व्यवहारिक रेडियो प्रदर्शित किया गया।
(४) सन् १९५७- ओहायो के कोलंबो चिड़ियाघर में कोलो नामक गुरिल्ला के बच्चे का जन्म हुआ, जो चिडियाघर में पैदा होने वाला पहला गुरिल्ला था। इससे पूर्व गुरिल्ला शिकार द्वारा पकड़े जाते थे और उन्हें नियंत्रित करने के लिए उनके संबंधियों का कत्ल कर दिया जाता था।
(५) सन् १९४०- प्रख्यात सामाजिक विचारक मानवेन्द्र नाथ राय ने रेडिकल डेमोक्रैटिक पार्टी के गठन की घोषणा की।
(६) सन् १९६५- ब्रिटेन में सभी ग्रामीण सड़कों पर अधिकतम गति की सीमा ७० किमि./घंटा निर्धारित कर दी गई।

२२ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १०९५- सिसिली के राजा रोजर द्वितीय,(निधन-सन् ११५४) |
(२) सन् ११७८- जापान के सम्राट अन्तोकु (निधन-सन् ११८५) |
(३) सन् १४००- लूका डेला रोब्बिया, इटली, मूर्तिकार (मैडोना के रोज गार्डन) |
(४) सन् १६६६- गुरू गोविन्द सिंह, सिख सम्प्रदाय के गुरु (निधन-सन् १७०८) |
(५) सन् १८८७- श्रिनिवास रामानुजम, प्रसिद्ध भारतीय गणितज्ञ (निधन-सन् १९२०)।
(६) सन् १९२२- जैक ब्रूक्स, अमेरिकी राजनितिज्ञ |
(७) सन् १९४७- दिलीप दोशी, क्रिकेटर (भारत के मुख्य धीमी गति के गेंदबाज) |
(८) सन् १९८३- जेनिफर हॉकिन्स, ऑस्ट्रेलियाई मिस यूनिवर्स |

२२ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् १८६७- जीन विक्टर पोंसलेट, फ्रांसीसी गणितज्ञ (कीनेमेटीक्स), ७९ वर्ष की आयु में निधन |
(२) सन् २००२- डेसमंड होयते, गुयाना के राष्ट्रपति (जन्म-सन् १९२९) |
(३) सन् २००६- ऐलेना मुखिना, रूसी जिमनास्ट (जन्म-सन् १९६०) |
***
'२३ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२३ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५७वॉ (लीप वर्ष मे ३५८वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और ८ दिन बाकी है।
२३ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १६७२- गिओवान्नी कैसिनी रिया की खोज के परिणामस्वरुप, शनि के उपग्रह का पता चला |
(२) सन् १९२१- विश्व भारती विश्वविद्यालय का उद्घाटन हुआ |
(३) सन् १९२२- बीबीसी रेडियो द्वारा दैनिक समाचार शुरू |
(४) सन् १९७०- न्यूय़ोर्क वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की उच्चतम बिंदु (४११ मीटर) तक ऊँचाई पहुँची |
(५) सन् २००५- अजरबैजान से एयरलाइंस 217 अकतू के लिए उड़ान और कजाकिस्तान के बाद शीघ्र ही टेकऑफ़ २३ लोग मारे गए दुर्घटना में मारे गए |

२३ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १९०२ - चौधरी चरण सिंह - भारत के सातवें प्रधानमन्त्री
(२) सन् १९२२- मिचेलाइन ऑस्टेर्मायर, फ्रेंच एथलीट और संगीतकार (निधन-सन् २००१)
(३) सन् १९५४- ब्रायन टीचर - अमेरिकी टेनिस खिलाड़ी एवं भूतपूर्व ऑस्ट्रेलियाई ओपन पुरुष एकल विजेता

२३ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् २००० - नूरजहाँ, ग़ज़ल और फ़िल्मी गीत गायिका |
(२) सन् २००४ - पामुलापति वेंकट नरसिंह राव - भारत के दसवें प्रधानमंत्री |
***
'२४ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२४ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५८वॉ (लीप वर्ष मे ३५९वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और ७ दिन बाकी है।
२४ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १५२४- यूरोप से भारत तक पहुँचने के समुद्री मार्ग का पता लगाने वाले पुर्तगाली खोजी नाविक वास्को डी गामा का कोच्ची (भारत) में निधन हो गया।
(२) सन् १८८९- भारत में पहला मनोरंजन पार्क एशेल वाल्ड मुम्बई में खोला गया।
(३) सन् १९२१- नोबेल पुरस्कार विजेता रविन्द्रनाथ ठाकुर द्वारा विश्व भारती विश्वविद्यालय की स्थापना की गई।
(४) सन् १९२४-क्रोयडोन लंदन की एयर फील्ड में हुई विमान दुर्घटना में ८ लोगों की मृत्यु हो गई।
(५) सन् १९२४-अल्बानिया गणतंत्र बना।
(६) सन् १९८६- भारत में संसद द्वारा उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम पारित किया गया। इसलिए भारत में २४ दिसंबर को राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस के रूप में मनाया जाता है।
(७) सन् २०००- विश्वनाथन आनंद विश्व शतरंज चैंपियन बने।
(८) सन् २००३- स्पेनी पुलिस ईटीए द्वारा ३:५५ बजे मैड्रिड के व्यस्त चामार्टिन स्टेशन के अंदर ५० किलोग्राम विस्फोटकों का विस्फोट के एक प्रयास को विफल कर दिया गया |

२४ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १९२२- आवा गार्डनर, अमेरिकी अभिनेत्री (निधन-सन् १९९०)
(२) सन् १९२४- मो. रफी, भारतीय गायक |
(३) सन् १९५७- हामिद करज़ई अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रपति |
(४) सन् १९५९- अनिल कपूर, भारतीय अभिनेता |

२४ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् १९८७- एम जी रामचंद्रन - तमिल अभिनेता और राजनेता ।

(२) सन्  २००७- अकबर राडी, ईरानी नाटककार और नाटककार (जन्म-सन् १९३९) 
(३) सन्  २००८- हेरोल्ड पिंटर, ब्रिटिश नाटककार ( जन्म-सन् १९३०)
(४) सन्  २००९- जॉर्ज माइकल, अमेरिकी स्पोर्ट्सकास्टर (जॉर्ज माइकल खेल मशीन) ( जन्म-सन् १९३९)
(५) सन्  २००९- राफेल काल्डेरा, वकील, समाजशास्त्री, लेखक, वक्ता, राजनीतिज्ञ, और वेनेजुएला के पूर्व अध्यक्ष ( जन्म-सन्  १९१६)
(६) सन्  २०१०- एलिसबेथ बेरेस्फोर्ड, ब्रिटिश लेखक और वोम्ब्लेस के निर्माता ( जन्म-सन् १९२६)
***
'२५ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२५ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३५९वॉ (लीप वर्ष मे ३६०वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और ६ दिन बाकी है।
२५ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १९४६ - ताइवान में संविधान स्वीकार किया गया |
(२) सन्  १९७३ - अरपानेट एक प्रोग्रामिंग बग सभी अरपानेट यातायात का कारण बना, हार्वर्ड विश्वविद्यालय में सर्वर के माध्यम से इसका प्रयोग हुआ |
(३) सन्  २००३ - बीगल मनहूस 2 जांच जो मार्स एक्सप्रेस अंतरिक्ष यान से १९ दिसंबर को जारी किया गया था, शीघ्र ही अपनी निर्धारित उतरने से पहले गायब हो गया |

२५ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन्  १२५० - जॉन चतुर्थ लास्करिस, बीजान्टिन सम्राट (निधन- सन्  १३०५)

(२) सन्  १४६१ - सक्सोंय के क्रिस्टीना, डेनमार्क और नॉर्वे की रानी (निधन- सन्  १५२१)
(३) सन् १९२६ - हिन्दी साहित्यकार धर्मवीर भारती का जन्म प्रयाग में ।
(४) सन् १९२७ - राम नारायण, संसद सदस्य |

२५ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् २०११- मशहूर निर्देशक, रंगकर्मी और पटकथा लेखक सत्यदेव दुबे का रविवार को मुंबई के एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 75 वर्ष के थे।

२५ दिसम्बर को उत्सव:-
(१)क्रिसमस - यह इसाई धर्म का एक उत्सव है, जो २४ दिसंबर की पूर्वसंध्या पर आरंभ होता है।
(२)आयरलैंड - गणतंत्र दिवस |
(३)रोमन उत्सव
(४)पाकिस्तान के संस्थापक- कायदे ए-आज़म का दिन (पाकिस्तान में, यह मोहम्मद आली जिन्ना का जन्म दिन है) ।
(५)चीन - कॉंस्टिट्यूशन दिन (行憲紀念日)
***
'२६ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२६ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३६०वॉ (लीप वर्ष मे ३६१वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और ५ दिन बाकी है।
२६ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन्  १८९३- चीन में कम्युनिस्ट पार्टी के संस्थापक और अध्यक्ष माओ ज़े तुंग का जन्म हुआ। उन्होंने वर्ष सन् १९२१ ईसवी को अपने जैसे विचारधारा रखने वाले कुछ लोगों के साथ मिलकर कम्युनिस्ट पार्टी का स्थापना की वे किसानों की सहायता पर बल देते थे इसी लिए ग्रामीण क्षेत्रों में उनके समर्थकों की संख्या बहुत अधिक थी। उन्होंने सन् १९३४ में विख्यात रैली का भी नेतृत्व किया जो एक वर्ष तक जारी रही थी। इसके दौरान ६० हज़ार से अधिक लोग मारे गये। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद कम्युनिस्टों ने तत्कालीन शासक चियान काय चेक को पराजित किया और सन् १९४९ में चीन में अपनी सरकार का गठन किया। माओ ने अपने शासन काल में चीन को एक शक्तिशाली केंद्रीय सरकार दी। सन् १९७६ में उनका निधन हुआ।
(२) सन्  १९७९= पूर्व सोवियत संघ की लाल सेना ने अफ़ग़ानिस्तान पर अधिकार करके एक स्वतंत्र देश के विरुद्ध अपनी सबसे लम्बी कार्रवाई का आरंभ किया। रुस की वर्तमान पीढ़ी के मतानुसार अफ़ग़ानिस्तान का अतिग्रहण क्रिमलिन की सबसे बड़ी भूल थी। रुस ने अफ़ग़ानिस्तान के तत्कालीन शासक बबरक कारमल की सहायता के बहाने इस देश पर आक्रमण किया। इस आक्रमण के एक दिन बाद कारमल ने अफ़ग़ानिस्तान में विद्रोह करके सत्ता हथिया ली।

२६ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १६६६- गुरू गोविन्द सिंह, सिख धर्म के दसवीं गुरु (निधन-सन् १७०८) |
(१) सन् १८७२- नॉर्मन Angell, ब्रिटिश राजनेता, नोबेल पुरस्कार विजेता (निधन-सन् १९६७) |
(१) सन्  १९३५- रोहन कन्हाई, क्रिकेटर (वेस्ट इंडीज के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक) |
(१) सन्  १९३७- जॉन होर्टन कोनवे, ब्रिटिश गणितज्ञ |
(१) सन्  १९९०- हारून रैमसे, वेल्श फुटबॉलर |

२६ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन्  १८९६- जर्मनी के इतिहासकार हेनरी टोराइचके का निधन हुआ। वे सन् १८३४ ईसवी में पैदा हुए थे। उनके द्वारा लिखा गया जर्मनी का इतिहास बहुत महत्वपूर्ण और विश्वसनीय माना जाता है। उनकी इस पुस्तक का नाम है जर्मनी १९वीं शताब्दी में।
(२) सन् २०११- स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले स्वतंत्रता सैनानी मास्टर हीरालाल शर्मा का सोमवार सुबह निधन हो गया। वे ९९ वर्ष के थे।
(३) सन् २०११-  कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एस बंगारप्पा का सुबह एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। वह कुछ समय से बीमार थे । उनके पारिवारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। ७९ वर्षीय बंगारप्पा के परिवार में उनकी पत्नी , दो बेटे तथा तीन बेटियां हैं। गुर्दे संबंधी बीमारी और मधुमेह से पीड़ित बंगारप्पा का सात दिसंबर से इलाज चल रहा था।
(४) सन् २०११-   राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ससुर रामस्वरूप चंदेल का सुबह यहां निधन हो गया। वह ९७ वर्ष के थे। उनके परिवार में छह पुत्र और एक पुत्री हैं।
***
'२७ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२७ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३६१वॉ (लीप वर्ष मे ३६२वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और ४ दिन बाकी है।
२७ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १९२३- टोक्यो में जापान के युवराज एक हत्या के प्रयास में सुरक्षित बच गए।
(२) सन् १९४५- वैश्विक अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने के लिए विश्व बैंक की स्थापना की गई।
(३) सन्  १९४५- द्वितीय विश्व युद्द की समाप्ति के बाद मास्को के ऐतिहासिक समाझौते पर हस्ताक्षर हुए। इस समझौते पर अमरीका ब्रिटेन और रुस के प्रतिनिधियों ने हस्ताक्षर किये थे। जिसके आधार पर कोरिया प्रायद्वीप जो एक देश समझा जाता था दो भागों में विभाजित हो गया।
(४) सन्  १९४५-  संयुक्त राष्ट्र के अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष आई एम एक़ ने अपना कार्य आरंभ किया। इस संस्था के उददेश्यों में विदेशी मुद्रा के मूल्यों को स्थिर रखना वाणिज्य विकास और प्रगति को सुचारु बनाना तथा कार्य के अवसर उपलब्ध कराना आदि शामिल है। अमरीका का इस संस्था पर विशेष प्रभाव है, यह अमरीका ही में स्थित है यह संस्था सदस्य देशों को क़र्ज़ें देती है। किंतु इसके लिए इसकी कठिन शर्तों पर क़र्ज़ा लेने वाले देशों को आपत्ति है।

२७ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन्  १५७१- जर्मनी के गणितज्ञ और खगोलशास्त्री यूहान कैपलर का जन्म हुआ। शिक्षा प्राप्ति के बाद वे अपने एक मित्र टीकू ब्राहे के माध्यम से खगोल शास्त्र की ओर आकर्षित हुए और धीरे धीरे उन्हें इस क्षेत्र में विशेष ख्याति प्राप्त हो गयी। खगोल शास्त्र से संबंधित उनके तीन नियम जो कैपलर नियम के नाम से जाने जाते हैं इस खगोल शास्त्री के कठिन परीश्रम का परिणाम हैं। सन् १६३० ईसवी में कैपलर का निधन हुआ।
(२) सन्  १८२२- फ़्रांस के चिकित्सक और रसायनशास्त्री लुई पास्चर का जन्म हुआ। उन्होंने शिक्षा प्राप्ति के बाद पहले तो पेरिस में अध्ययन आरंभ किया। २७ वर्ष की आयु में उन्होंने रसायनशास्त्र में पी एच डी की डिग्री प्राप्त की और फिर वे स्ट्रेसबर्ग विश्व विद्यालय में रसायनशास्त्र पढ़ाने लगे। साथ ही वे पेरिस वैज्ञानिक अनुसंधान केंद्र के अध्यक्ष भी थे। पास्चर ने विशेष रुप से संक्रामक रोगों के बाद में नये विचार प्रस्तुत किये हैं। उनकी खोज से रोगाणुओं से मुक़ाबले और विभिन्न बीमारियों के उपचार के क्षेत्र में बहुत प्रगति हुई। सन् १८८८ में फ़्रांस की सरकार ने उनके नाम से वैज्ञानिक अनुसंधान केंद्र पास्चर इन्स्टीटयूट खोला विश्व के बहुत से देशों में इसकी शाख़ाऐं हैं।
(३) सन् १९३७- शंकर दयाल सिंह - भारत के राजनेता तथा हिन्दी साहित्यकार (निधन-सन् १९९५)
(४) सन् १९६५- सलमान ख़ान

२७ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् २००७ - बेनज़ीर भुट्टो - पाकिस्तान की १२वीं (सन् १९८८ में) व १६वीं (सन् १९९३ में) प्रधानमंत्री |

***
'२८ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२८ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३६२वॉ (लीप वर्ष मे ३६३वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और ३ दिन बाकी है।
२८ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन्  १८९५- सिनेमा के इतिहास में पहली बार किसी कहानी को फ़िल्म का रूप दिया गया। यह फ़िल्म फ्रांस के अविष्कारक लूमीर बंधुओं ने बनाई जिन्हें फ़िल्म-जगत का जनक कहा जाता है। उन्होंने यह फ़िल्म पेरिस में एक भूमिगत स्थान पर दिखाई। इसके बाद फ़िल्म जगत में क्रान्ति आती गई और देखते ही देखते यह उद्योग विश्व भर में फैल गया।

२८ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १६३५- इंग्लैंड की राजकुमारी एलिजाबेथ (निधन-सन् १६५०) |
(२) सन् १९१७- एलिस क्लार्क, राष्ट्रपति त्रिनिदाद और टोबैगो (कार्यकाल-सन् १९७६-सन् १९८७) |
(३) सन्  १९३२- धीरूभाई अंबानी, भारतीय व्यापारी (निधन-सन् २००२) |

२८ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् १८५९- ब्रिटिश इतिहासकार थामस बैबिन्गटन मैक्यावेल का निधन हुआ। वह सन् १८०० में जन्मे और राजनीति शास्त्र की शिक्षा पूरी करने के बाद राजनैतिक क्षेत्र में सक्रिय हो गए। उन्होंने वकालत भी की और कुछ समय बाद रक्षा मंत्र बन गए। उन्होंने ब्रिटिश इतिहास पर महत्वपूर्ण पुस्तक लिखी है।
***
'२९ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
२९ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३६३वॉ (लीप वर्ष मे ३६४वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और २ दिन बाकी है।
२९ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १८६२- क्रिकेट बॉलिंग गेंद का आविष्कार |
(२) सन्  १९९४- जिया की बांग्लादेश सरकार का इस्तीफा |
(३) सन्  १९९७- हांगकांग बर्ड फ्लू को रोकने के अपने सभी मुर्गियों के कत्लेआम शुरू |
(४) सन्  २००१- मेसा रेडोंदा शॉपिंग सेंटर , लीमा, पेरू में आग लगी , लगभग २९१ व्यक्ति मारे गए |

२९ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १७९६- जोहान क्रिश्चियन पोग्गेंदोर्फ्फ़, जर्मन भौतिकशास्त्री (निधन- सन् १८७७) |
(२) सन्  १८००- चार्ल्स गुडइयर, आविष्कारक (वुल्कनिज़तिओन प्रक्रिया के लिए रबर) |
(३) सन्  १८०६- विलियम ग्लैडस्टोन, लिबरल प्रधानमंत्री |
(४) सन्  १९८९- नाथन फोर्ब्स, ब्रिटिश फुटबॉलर |
(५) सन्  १९९४- जापान की अकिशिनो राजकुमारी काको |

२९ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् ७२१- जापान की महारानी गेम्मी (जन्म- सन् ६६१) |
(२) सन्  १७३१- जम्मू ब्रुक टेलर, अंग्रेजी गणितज्ञ, ४६ वर्ष की आयु में निधन |
(३) सन्  १७३७- यूसुफ सुरिं, फ्रांसीसी गणितज्ञ ( जन्म- सन्  १६५९) |
***
'३० दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
३० दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३६४वॉ (लीप वर्ष मे ३६५वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और १ दिन बाकी है।
३० दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १४६०- वेकफील्ड की प्रसिद्द लड़ाई |
(२) सन्  १८६१- अमेरिका के बैंकों सोने के रूप में भुगतान बंद हो गया |
(३) सन्  १९०६- ईरान में एक संवैधानिक राजशाही का प्रारम्भ |
(४) सन्  १९४३- सुभाष चंद्र बोस ने पोर्ट ब्लेयर में भारतीय स्वतंत्रता का ध्वज उठाया |
(५) सन्  २०११-  चक्रवाती तूफान 'ठाणे' ने शुक्रवार को तमिलनाडु के तटीय इलाकों में जमकर कहर बरपाया। तूफान और उसके साथ आई मूसलाधार बारिश के चलते कम से कम ३३ लोगों की मौत हो गई। तूफान में करीब १४० कि.मी. प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। इससे बड़ी संख्या में मकान को नुकसान पहुंचा, जबकि फसलें बर्बाद हो गईं।


३० दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् ३९ - - रोमन सम्राट टाइटस, (सन् ७९-सन् ८१) , यरूशलेम के विजेता |
(२) सन् १७४०- वेल्स की राजकुमारी एलिजाबेथ कैरोलीन (निधन-सन् १७५९) |
(३) सन्  १८७९- श्री रमण महर्षि, हिंदू दार्शनिक / योगी (महर्षि अनुसंधान इंस्टीटयूट) |
(४) सन्  १९४८- सुरिंदर अमरनाथ, भारतीय क्रिकेटर (प्रसिद्द भारतीय क्रिकेटर लाला अमरनाथ के बड़े बेटे) |

३० दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् १६९१- रॉबर्ट बॉयल, आयरिश वैज्ञानिक (जन्म-  सन् १६२७) |
(२) सन् १९६७- विन्सेन्ट मास्सी, कनाडा के गवर्नर जनरल (जन्म-  सन् १८८७) |
(३) सन् २००६- अपदस्थ इराकी तानाशाह सद्दाम हुसैन बगदाद में फांसी पर लटका दिया गया |
***
'३१ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व'
३१ दिसम्बर ग्रेगोरी कैलंडर के अनुसार वर्ष का ३६५वॉ (लीप वर्ष मे ३६६वॉ) दिन है। वर्ष मे अभी और शून्य दिन बाकी है।
३१ दिसम्बर का ऐतिहासिक महत्व को प्रदर्शित करने वाली कुछ प्रमुख घटनाएँ निम्नलिखित हैं--
(१) सन् १६००- ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी चार्टर्ड की घोषणा |
(२) सन्  १९०२- बोअर और ब्रिटिश सेना हस्ताक्षर शांति संधि |
(३) सन्  १९११- मैरी क्यूरी को 2 नोबेल पुरस्कार प्राप्त |
(४) सन्  १९५१- बैटरी द्वारा बिजली के लिए रेडियोधर्मी ऊर्जा में परिवर्तित करने की घोषणा |
(५) सन्  १९८४- मोहम्मद अजहरुद्दीन के टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत, कलकत्ता में बनाम इंग्लैंड |
(६) सन्  १९९७- माइक्रोसॉफ्ट द्वारा हॉटमेल ई-मेल सेवा खरीदी गयी |

३१ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों के जन्मदिन हैं:-
(१) सन् १८६०- जोसेफ एस कल्लिनन, अमेरिकी तेल उद्योगपति (निधन-सन् १९३७) |
(२) सन्  १८६९- हेनरी मैटिस, फ्रांस, प्रभाववादी चित्रकार (औडलीस्क) |
(३) सन्  १९४३- बेन किंग्सले, स्कारबोरो इंग्लैंड, अभिनेता (गांधी, विश्वासघात, मौरिस) |
(४) सन्  १९५५- भारतीय अपराध की दुनिया का डान एवं अन्तर्राष्ट्रीय अपराधी दाऊद इब्राहिम |
(५) सन्  १९५८- ज्योफ मार्श, ऑस्ट्रेलियन क्रिकेटर (सन् १९८५-सन् ९२) |

३१ दिसम्बर को निम्नलिखित कुछ प्रसिद्द व्यक्तियों का निधन हुआ:-
(१) सन् १९६४- ओलाफुर थोर्स, आइसलैंड के प्रधानमंत्री (जन्म-सन् १८९२) |
(२) सन्  १९७१- विक्रम साराभाई, भारतीय भौतिक विज्ञानी (जन्म-सन् १९१९) |
(३) सन्  २००७- माइकल गोल्डवर्ग, अमेरिकी चित्रकार (जन्म-सन् १९२४) |

इतिहास की संपूर्णता असाध्य सी है, फिर भी यदि हमारा अनुभव और ज्ञान प्रचुर हो, ऐतिहासिक सामग्री की जाँच-पड़ताल को हमारी कला तर्कप्रतिष्ठत हो तथा कल्पना संयत और विकसित हो तो अतीत का हमारा चित्र अधिक मानवीय और प्रामाणिक हो सकता है। सारांश यह है कि इतिहास की रचना में पर्याप्त सामग्री, वैज्ञानिक ढंग से उसकी जाँच, उससे प्राप्त ज्ञान का महत्व समझने के विवेक के साथ ही साथ ऐतिहासक कल्पना की शक्ति तथा सजीव चित्रण की क्षमता की आवश्यकता है । स्मरण रखना चाहिए कि इतिहास न तो साधारण परिभाषा के अनुसार विज्ञान है और न केवल काल्पनिक दर्शन अथवा साहित्यिक रचना है । इन सबके यथोचित संमिश्रण से इतिहास का स्वरूप रचा जाता है ।
यदि आपको भी दिसम्बर माह की १६ से ३१ दिसम्बर तक विभिन्न तिथियों का ऐतिहासिक महत्त्व इसी प्रकार ऐतिहासिक महत्व के सन्दर्भ में कुछ ज्ञात हो तो आप भी हमारा ज्ञानवर्द्धन अवश्य करें....
'जय हिंद,जय हिंदी'

6 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक पोस्ट, आभार.

    नूतन वर्ष की मंगल कामनाओं के साथ मेरे ब्लॉग "meri kavitayen " पर आप सस्नेह/ सादर आमंत्रित हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  3. डॉ मनोज चतुर्वेदी जी आपने जिस प्रकार से इतिहास का एक महत्तवपूर्ण अंश को उजागर करने का प्रयास किया वो बहुत ही सराहनीय है आप आगे भी इसी प्रकार से अपनी प्रस्तुति देते रहे और अपनी कोई भी नयी जानकारी शब्दनगरी पर भी प्रकाशित कर सकते हैं.....

    उत्तर देंहटाएं